महादेवी वर्मा का जीवन परिचय | mahadevi verma ka jeevan parichay

नमस्कार दोस्तों मेरा नाम अभिषेक है आप सभी का स्वागत है आज के नए आर्टिकल में आज के आर्टिकल में हम लोग बात करने वाले हैं mahadevi verma ka jeevan parichay और mahadevi verma ka sahityik parichay in hindi के बारे में बात करने वाले हैं और महादेवी वर्मा की रचनाएँ के बारे में आप सभी को संपूर्ण जानकारी देने वाले हैं।

नाममहादेवी वर्मा
जन्म24 मार्च सन् 1907 ई०
जन्म स्थानफर्रुख़ाबाद , उत्तर प्रदेश
पति का नाम11 सितम्बर सन् 1987 ई०
भाई बहनश्यामा देवी, जगमोहन वर्मा एवं महमोहन वर्मा
पिता का नामश्री गोविन्द सहाय वर्मा
माता का नामश्रीमती हेमरानी देवी
मृत्यु11 सितम्बर सन् 1987 ई०
राष्ट्रीयताभारतीय
धर्महिंदू

mahadevi verma ka jeevan parichay

महादेवी वर्मा का जन्म सन 1907 ई. को उ० प्र. राज्य के फर्रुखाबाद नामक जनपद में हुआ था। इनके पिता का नाम गोविन्द प्रसाद तथा माता का नाम हेमरानी देवी था । इनकी माता एक धार्मिक स्वभाव की महिला थीं।

इनके पिता गोविन्दसहाय वर्मा जो एक कालेज के प्राधानाचार्य थे। इनके नाना जी को भी ब्रज भाषा में कविता करने की रुचि थी। पिता एवं माता के गुणों का महादेवी पर गहरा प्रभाव पड़ा। इनकी प्रारंभिक शिक्षा इन्दौर में और उच्च शिक्षा प्रयाग में हुई थी।

इनका जीवन काफी संघर्षमय रहा। संस्कृत से एम०ए० उत्तीर्ण करने के बाद ये प्रयाग महिला विद्यापीठ में प्रधानाचार्या हो गयीं। इनका विवाह 9 वर्ष की अल्पायु में ही गया था।

इनके पति श्री रूपनारायण सिंह एक डॉक्टर थे, परन्तु इनका दाम्पत्य जीवन सफल नहीं था विवाहोपरान्त ही इन्होंने एफ०ए०, बी०ए० और एम०ए० परीक्षाएँ सम्मानसहित उत्तीर्ण कीं।

महादेवी जी ने घर पर ही चित्रकला तथा संगीत की शिक्षा भी प्राप्त की। कुछ समय तक ये ‘चाँद’ पत्रिका की सम्पादिका भी रहीं। 11 सितम्बर, 1987 ई० को इस महान् लेखिका का मृत्यु हो गया।

mahadevi verma ka sahityik parichay in hindi

महादेवी वर्मा जी साहित्य और संगीत के अलावा चित्रकला में भी रुचि रखती थी इनकी साहित्य साधना के लिए भारत सरकार ने इन्हें पद्मभूषण से सम्मानित किया इन्हें इनके ग्रन्थ ” यामा” पर भारतीय ज्ञानपीठ पुरस्कार प्राप्त हुआ और उन्हें आधुनिक युग की मीरा भी कहा जाता है ।

महादेवी वर्मा का मुख्य रचना क्षेत्र काव्य है। इनके काव्य में वेदना की प्रधानता है। ‘चाँद’ पत्रिका का सम्पादन करके इन्होंने नारी को अपनी स्वतंत्रता और अधिकारों के प्रति सजग किया है। महादेवी वर्मा मैट्रिक परीक्षा उत्तीर्ण करने के बाद ही काव्य रचनाएँ प्रारंभ कर दी थी। इनकी रचनाएँ सर्वप्रथम चाँद पत्रिका में प्रकाशित हुई।

महादेवी वर्मा जी के जीवन पर महात्मा गाँधी को तथा कला-साहित्य साधना पर कवीन्द्र रवीन्द्र का प्रभाव पड़ा। इनका हृदय अत्यन्त करुणापूर्ण, संवेदनायुक्त एवं भावुक था।

इसलिए इनके साहित्य में भी वेदना की गहरी टीस है। इन्होंने नारी-स्वातन्त्र्य के लिए संघर्ष किया, परन्तु अपने अधिकारों की रक्षा के लिए नारियों का शिक्षित होना आवश्यक बताया।

कुछ वर्षों तक ये उत्तर प्रदेश विधान परिषद् की मनोनीत सदस्या भी रहीं। भारत के राष्ट्रपति से इन्होंने ‘पद्मभूषण’ की उपाधि प्राप्त की। हिन्दी साहित्य सम्मेलन की ओर से इन्हें ‘सेकसरिया पुरस्कार’ तथा ‘मंगलाप्रसाद पारितोषिक’ मिला।

मई 1983 ई० में भारत-भारती’ तथा नवम्बर 1983 ई० में यामा पर ‘ज्ञानपीठ पुरस्कार’ से इन्हें सम्मानित किया गया।

mahadevi verma ki rachnaye in hindi

महादेवी वर्मा की रचनाएँ निम्नलिखित है –
(1) नीहार
(2) रश्मि
(3) नीरजा
(4) सान्ध्यगीत
(5) दीपशिखा
(6) यामा

महादेवी वर्मा की काव्यगत विशेषताएँ

चार रचनाएँ – यामा, नीरजा, निहारिका, सांध्यगीत दीपशिखा, अतीत के चलचित्र, पथ के साथी

भावपक्ष – आपकी काव्य रचना शत प्रतिशत भारतीय परम्परा पर आधारित है। इस कारण आपकी रचनाओं में संगीतात्मकता, संक्षिप्तता है। भावानुकूल दर्शन, तथा रहस्यवाद अधिक है। वेदना का मधुर रस भी आपकी रचनाओं में उभरकर आया है।

वेदना एवं विरह की प्रधानता – महादेवी जी के काव्य की मूल प्रेरणा पीड़ा, वेदना, अवसाद और विषाद में निहित है। वेदना से इनका स्वाभाविक प्रेम है।

कलापक्ष – कला पक्ष की दृष्टि से आपकी काव्य गीतिकाव्य के अन्तर्गत आती है। आपकी रचनाओं में भावात्मकता संगीतात्मकता, संक्षिप्तता है। भावानुकूल भाषा शैली है। भावानुकूल ध्वनियों शब्दों का प्रयोग आपके काव्य की विशेषता है।

FAQ

Q : महादेवी वर्मा के दो काव्य संग्रहो के नाम लिखिए

Ans : नीहार (1930), रश्मि (1932)

Q : महादेवी वर्मा की प्रसिद्ध रचना पर कौन पुरस्कार दिया गया

Ans : यामा” के लिए ज्ञानपीठ पुरस्कार, साहित्य अकादमी के लिए पद्म विभूषण मिला

Q : महादेवी वर्मा के रेखाचित्र के नाम क्या है?

Ans : अतीत के चलचित्र, स्मृति की रेखाएं

Q : महादेवी वर्मा को यामा रचना के लिए कौन सा पुरस्कार मिला ?

Ans : ज्ञानपीठ पुरस्कार

Q : भारत सरकार ने महादेवी वर्मा को कौन सी उपाधि से सम्मानित किया

Ans : पद्म विभूषण

Q : महादेवी वर्मा का जन्म कब और कहां हुआ था

Ans : 1907 ई. को उ० प्र. राज्य के फर्रुखाबाद नामक जनपद में हुआ

Q : महादेवी वर्मा के माता का नाम क्या था

Ans : श्रीमती हेमरानी वर्मा

Q : महादेवी वर्मा के पिता का नाम क्या था

Ans : गोविन्द प्रसाद वर्मा

Q : महादेवी वर्मा का विवाह किसके साथ हुआ

Ans : डॉ० स्वरूपनारायण वर्मा

Q : महादेवी वर्मा की मृत्यु कब हुई

Ans : 11 सितम्बर 1987

इसे भी पढ़ें –

अयोध्या सिंह उपाध्याय हरिऔध का साहित्यिक परिचय

गरीब परिवार बना करोड़पति

महत्वपूर्ण पर्यायवाची शब्द

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *